राज्य के सरकारी अस्पतालों में सुविधाओं का घोर अभाव : डाॅ0 प्रेम कुमार

Date posted: July 17, 2017    4:54 PM

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता डाॅ0 प्रेम कुमार ने कहा कि राज्य सरकार को गरीबों की कोई चिंता नही है। आज सूबे के अधिकतम सरकारी अस्पताओं की स्थिति नाजुक बनी हुई है। स्वास्थ्य सुविधाओं का घोर अभाव है। मरीजों को बेहतर चिकित्सा सेवा नही मिल पा रही हैं। पीएचसी से लेकर सदर अस्पतालों तक में विषेषज्ञ चिकित्सकांे की घोर कमी है। डाॅ0 कुमार ने कहा कि सरकारी अस्पतालों की स्थिति इससे स्पष्ट होती है, कि सुबे के मुखिया के गृह जिले में 292 डाॅक्टरों की जगह मात्र 92 डाॅक्टर नियुक्त है। कमोबेष हर जिलों की यही स्थिति है। चिकित्सों एवं चिकित्सकीय सुविधाओं के घोर अभाव के कारण मरीजों को निजी डाॅक्टरों का सहारा लेना पर रहा है। निजी अस्पतालों में मनमाना शुल्क वसूली से मरीजों एवं उनके परिजनो की हालत और गंभीर हो जाती है।
डाॅ0 कुमार ने कहा कि सूबे के स्वास्थ्य मंत्री को अपने एवं अपने पार्टी के स्वास्थ्य की चिंता सता रही है। जिसके कारण उनका राज्य के मरीजों एवं अस्पतालों पर कोई ध्यान नही है। जिससे गरीब गुरबें तबके के रोगियों को काफी परेषानी हो रही है। सरकार द्वारा मरीजो के हित की कोई योजना नही है। सरकार का कहना है कि सभी महिलाओं का प्रसव सरकारी अस्पताल में हो। किन्तु जब गर्भवती महिलाओं को बड़ा आॅपरेषन की बात आती है तो चिकित्सकीय अभाव के कारण रेफर-टू-पीएमसीएच कर दिया जाता है। वहीं अस्पतालों में माॅर्चरी का अभाव रहने के कारण लाषों को कुत्ते खा रहें है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *