राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग खत्म, रामनाथ कोविंद का दावा मजबूत

Date posted: July 17, 2017    9:08 AM

नई दिल्ली:  राष्ट्रपति चुनाव-2017 के लिए वोटिंग पूरी हो गई है। वोटिंग शाम 5 बजे तक होनी थी। इस राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और विपक्षी दलों की उम्मीदवार मीरा कुमार के बीच टक्कर है। आंकडों को देखें तो मीरा कुमार के मुकाबले रामनाथ कोविंद का पलडा भारी है। त्रिपुरा में हुई क्रॉस वोटिंग ने इस मुकाबले को और भी रोमांचक बना दिया है। रात 8.50 पर मतपत्रों को दिल्ली ले जाया जाएगा। आपको बता दें कि यह देश के 14वें राष्ट्रपति के लिए चुनाव हो रहे हैं। वर्तमान राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी इसी महीने पदमुक्त हो रहे हैं। राष्ट्रपति चुनाव का परिणाम 20 जुलाई को आएगा जबकि 25 जुलाई को शपथ ग्रहण समारोह होगा।
राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज पहला वोट प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने डाला। उसके बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार सहित कई भाजपा नेताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के अलावा राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे व पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित बसपा प्रमुख मायावती, फारूक अबदुल्ला, महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़नवीस, तेलंगाना के सीएम के.सी.राव ने अपने वोट का इस्तेमाल किया।

दोपहर में एसपी की डिंपल यादव, आरजेडी की मीसा भारती, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक व आंध्रप्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू भी वोट डालने विधानसभा पहुंचे। इनके अलावा, अभिनेता एवं सांसद परेश रावल एवं हेमा मालिनी ने भी आज सुबह मतदान किया। इससे पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, बीजेपी के नेता मुरली मनोहर जोशी, उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ, डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन सहित असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने अपना वोट डाला।

सपा के शिवपाल यादव भी कोविंद को समर्थन दे रहे हैं। वहीं दूसरी ओर तेलंगाना में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस), ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम और वाईएसआर कांग्रेस ने भी कोविंद के पक्ष में मतदान करने की घोषणा की थी।

संसद के दोनों सदनों में जहां सांसदों की वोटिंग की व्यवस्था की गई थी। संसद भवन के कमरा संख्या-62 में मतदान केंद्र बनाया गया था। यहां विभिन्न राज्यों से चुनकर सांसदों के लिए अलग-अलग मेजों की व्यवस्था की गई थी। संसद भवन में कुल छह मेजों पर मतदान हुआ। इस चुनाव में हरे और गुलाबी रंग के दो बैलेट पेपर इस्तेमाल किए गए थे। हरे रंग का बैलेट सांसदों, जबकि गुलाबी बैलेट पेपर विधायकों के लिए लिए रखा गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *