कृषकों की आमदनी दुगनी करने के लिए कार्यशाला का आयोजन

Date posted: September 27, 2017    2:04 PM

लखनऊ:  प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना ’’कृषकों की आय दुगनी’’ करने एवं उ0प्र0 भूमि सुधार निगम को उत्कृष्ट केन्द्र के रूप मे ंविकसित करने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश भूमि सुधार निगम मुख्यालय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया।  कार्यशाला का शुभारम्भ उ0प्र0 भूमि सुधार निगम के प्रबन्ध निदेशक अजय यादव ने दीप प्रज्जवलित कर किया।  यादव ने कहा कि उ0प्र0 में जलवायु और प्राकृतिक संसाधनों को देखते हुए बहुत कुछ किया जा सकता है। श्री यादव ने कहा कि किसान ही सही मायने में वैज्ञानिक हैं, वही खेती में प्रयोग करता है। कार्यशाला में उन्होनें उ0प्र0 भूमि सुधार निगम को उत्कृष्ट केन्द्र के रूप में विकसित करने के बारे में संकल्प दोहराया। इसके बारे में और पढ़े..

कृषकों की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा: अध्यक्ष विधान सभा दीक्षित

Date posted: September 12, 2017    11:28 AM

लखनऊः  लघु एवं सीमांत किसानों द्वारा 31 मार्च 2016 तक लिए गए फसली ऋण में वर्ष 2016-17 में जमा की गई धनराशि  को घटाते हुए 31 मार्च 2017 तक बकाया धनराशि का एक लाख की सीमा तक ऋण मोचन व्यवसायिक ग्रामीण व सहकारी बैंकों से दिए गए फसली ऋण मोचन योजना के अंतर्गत नवीन मंडी स्थल उन्नाव में जनपद स्तरीय प्रमाण पत्र वितरण कार्यक्रम एवं उत्तर प्रदेश सरकार की फसल ऋण मोचन योजना के अंतर्गत जनपद स्तरीय प्रमाण पत्र वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया।  इसके बारे में और पढ़े..

मध्यम गहरी बोरिंग योजना के लिए 1854.32 लाख रुपये स्वीकृत

Date posted: September 4, 2017    6:53 PM

लखनऊ: प्रदेश शासन ने किसानों के लिए चलाई जा रही एल्यूवियम क्षेत्रों में मध्यम गहराई के नलकूपों के निर्माण योजना के लिए वर्तमान वित्तीय वर्ष में 18 करोड़ 54 लाख 32 हजार रुपये की धनराशि स्वीकृत की है। इस सम्बंध में लघु सिंचाई विभाग द्वारा आवश्यक आदेश जारी कर दिए गए हैं। राज्य सरकार द्वारा किसानों के हित में सिंचाई सुविधाओं के हेतु विभिन्न योजनाएं संचालित की जा रही है। उसमें मध्यम गहरी बोरिंग योजना प्रदेश के ऐसे क्षेत्र विशेष में प्रभावी है, जहां 31-60 मीटर तक की गहराई में भूजल स्रोत उपलब्ध है। इसके बारे में और पढ़े..

टीम भावना से काम करें उद्यान विभाग के अधिकारी/कर्मचारी : दारा सिंह

Date posted: August 31, 2017    2:29 AM

लखनऊ : किसानों तक पहुँच सरकार की प्राथमिकता है। सरकार की कोशिश है कि सारी व्यवस्था को आॅनलाइन कर दिया जाय। अधिकारियों का दायित्व है कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का प्रचार-प्रसार करे, किसानों तक योजनाओं का लाभ पहुँचाना सुनिश्चित करे। किसानों में झिझक है, अधिकारियों का दायित्व है कि किसानों में व्याप्त झिझक को दूर करे। इसके बारे में और पढ़े..

निःशुल्क बोरिंग योजना हेतु 2265.35 लाख रुपये स्वीकृत

Date posted: August 31, 2017    2:11 AM

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश शासन ने लघु एवं सीमान्त कृषकों को कृषि उत्पादन हेतु सहायता (निःशुल्क बोरिंग योजना) के अन्तर्गत सामान्य कृषकों के लिए 22 करोड़ 65 लाख 35 हजार रुपये की धनराशि स्वीकृत की है। इस धनराशि का उपयोग योजनान्तर्गत पात्र कृषकों को अनुदान की सुविधा उपलब्ध कराकर व तकनीकी मार्गदर्शन देकर निजी लघु सिंचाई संसाधन उपलब्ध कराने में किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि इस योजना हेतु 38.83 करोड़ रुपये की धनराशि का प्राविधान किया गया है। इसके बारे में और पढ़े..

किसानों को ऋण मोचन योजना के प्रमाण पत्र दिए जायेंगे: कृषि मंत्री

Date posted: August 16, 2017    11:26 PM

लखनऊ:   प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कल केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह की उपस्थिति में यहां स्मृति उपवन में फसल ऋण मोचन का शुभारम्भ करते हुए लगभग 7500 किसानों को फसल ऋण मोचन योजना का प्रमाण पत्र देंगे। इस सम्बंध में आज प्रदेश के कृषि, कृषि शिक्षा, कृषि शिक्षा अनुसंधान मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने आज बताया कि 17 अगस्त का दिन उ0प्र0 के किसानों के लिए ऐतिहासिक दिन होगा | इसके बारे में और पढ़े..

ग्राउण्ड वाटर रिचार्जिंग चेकडेमों के निर्माण हेतु 12.49 करोड़ रुपये स्वीकृत

Date posted: July 13, 2017    10:46 AM

लखनऊ :  प्रदेश सरकार ने लघु सिंचाई योजना में ग्राउन्ड वाटर चार्जिंग चेकडैमों के निर्माण पर चालू वित्तीय वर्ष 2017-18 के अन्तर्गत प्रथम पांच माह के लिए 12.49 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत की है। इस धनराशि से ग्राउन्ड वाटर चार्जिंग चेकडैमों का निर्माण किया जायेगा जिससे अधिक वर्षा जल संग्रहण और भूजल संवर्धन होगा।
इस सम्बन्ध में लघु सिंचाई एवं भूगर्भ जल विभाग द्वारा शासनादेश जारी कर दिया गया है। इसके बारे में और पढ़े..

चीनी उत्पादन में पहली बार प्रथम स्थान पर पंहुचा उत्तर प्रदेश

Date posted: May 27, 2017    9:23 AM

लखनऊ:    उत्तर प्रदेश में इस वर्ष गन्ना का औसत उपज 723.76 कुन्टल प्रति हेक्टेयर हुई है जो अब तक प्रदेश के इतिहास की सर्वाधिक औसत उपज है। इस वर्ष की औसत उपज गत वर्ष की औसत उपज 664.68 कुन्टल प्रति हेक्टेयर से 59 कुन्टल प्रति हेक्टेयर अधिक है। यह जानकारी गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग आयुक्त श्री विपिन कुमार द्विवेदी ने दी। उन्होंने बताया कि इस वर्ष प्रदेश में 87.50 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ है जो अब तक का रिकार्ड चीनी उत्पादन है तथा प्रदेश इस वर्ष चीनी उत्पादन में पहली बार  देश में प्रथम स्थान पर पहुंच गया है। इसके बारे में और पढ़े..

ललितपुर की समीक्षा बैठक विकास कार्यों में लापरवाही क्षम्य नहीं होगी-कृषि मंत्री

Date posted: May 14, 2017    7:10 PM

लखनऊ: 09 मई,प्रदेश के कृषि मंत्री तथा प्रभारी मंत्री ललितपुर जनपद श्री सूर्य प्रताप शाही ने आज कानून व्यवस्था एवं विकास कार्यों की समीक्षा बैठक किया। मंत्री ने जनता की समस्यायें सुनी तथा सम्बंधित अधिकारियों को समस्याओं के त्वरित निस्तारण के निर्देश दिये। बैठक में दैवीय आपदा से प्रभावित लोगों के बारे में जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि वित्तीय वर्ष 2015-16 में आवंटित धनराशि किसानो में वितरित की जा चुकी है। विद्युत विभाग की समीक्षा में विकास खण्डवार विद्युतीकरण की जानकारी उन्होंने प्राप्त किया तथा दीनदयाल विद्युतीकरण योजना की प्रगति के बारे में अधिशाषी अभियंता विद्युत ने बताया कि अब तक 84 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है तथा शेष कार्य 30 जून तक पूर्ण कर लिया जायेगा। उन्होंने बताया कि जनपद में 24 घण्टे विद्युत आपूर्ति की जा रही है। सब स्टेशनो के बारे में अधिशाषी अभियंता विद्युत ने बताया कि जाखलौन, पूराकलां, बंगरिया, मिर्चवारा तथा नेहरू नगर में सब स्टेशन स्थापित करने का कार्य चल रहा है जिस पर मंत्री ने शेष कार्य जल्द पूर्ण करने के तथा विद्युत आपूर्ति में सुधार लाने के निर्देश दिये। गेहूं खरीद की समीक्षा में उनके द्वारा गेहंू क्रय केन्द्रों से गेहूं के उठान, किसानो द्वारा गेहूं क्रय के सापेक्ष भुगतान, खरीफ के फसलों के समर्थन मूल्यों आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की गई। इसके बारे में और पढ़े..

फसलों हेतु किसानों को खाद बीज उपलब्ध कराने में लापरवाही क्षम्य नहीं होगी-कृषि मंत्री

Date posted: May 5, 2017    8:16 AM

लखनऊ 04 मई, प्रदेश के कृषि मंत्री श्री एस.पी. शाही ने कहा कि किसानों को आगामी फसलों के लिए पर्याप्त मात्रा में खाद एवं बीज उपलब्ध कराया जाय। बीज की गुणवत्ता में कोई कमी नहीं होनी चाहिए तथा किसानों को गोदामों से आॅनलाईन बुकिंग के माध्यम से भी बीज उपलब्ध कराने की व्यवस्था किया जाय। उन्होंने कहा कि कृषि विभाग अपनी परम्परागत साधनों के स्थान पर नवीन तकनीक का प्रयोग करें जिससे किसानों को अधिक से अधिक लाभ प्राप्त हो सके।
उन्होंने कहा कि चालू वर्ष में 60 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में धान की खेती होनी है। कृषि विभाग को 55 हजार कुन्तल बीज की व्यवस्था करनी है। यह बीज किसानों को अनुदान के रूप में दिया जाना है। उन्होंने निर्देश दिये कि मई के प्रथम सप्ताह में किसानों तक धान, मक्का, ज्वार, मूग, अरहर, तिल, सोयाबीन तथा मूंगफली, के बीज पहुंचना प्रारम्भ हो जाना चाहिए। बीजों की गुणवत्ता में कोई कमी न हो। इसके बारे में और पढ़े..

« Older Entries