पुरी और अहमदाबाद में शुरू हुई भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा

Date posted: June 25, 2017    10:26 AM

पुरी:  भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा का उत्सव आज पारंपरिक रीति के अनुसार शुरू हो गया है। आपको बता दें कि जगन्नाथ रथ उत्सव आषाढ़ शुक्ल पक्ष की द्वितीया से आरंभ होकर शुक्ल एकादशी तक मनाया जाता है। इस दौरान रथ को अपने हाथों से खींचना बेहद शुभ माना जाता है। भगवान जगन्नाथ उनके भाई बलराम और बहन सुभद्रा के तीन रथ बनाए जाते हैं। यह रथ लकड़ी के बने होते हैं। जगन्नाथ जी के रथ को नंदीघोष, बलराम जी के रथ को तलध्वज और सुभद्रा जी के रथ को देवदलन कहा जाता है। तीनों रथों को जगन्नाथ मंदिर से खींच कर 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित गुंडीचा मंदिर तक लाया जाता है।

ओडिशा के कंधमाल में नक्सली हमला: एक जवान शहीद, 10 गंभीर घायल

Date posted: June 6, 2017    9:05 AM

कंधमाल:  ओडिशा के कंधमाल जिले में नक्सली हमले में एक जवान शहीद हो गया है और 10 जवान गंभीर रूप से घालय हो गए है। बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने सुरक्षाबलों पर उस समय हमला किया जब वो एक कॉम्बिंग ऑपरेशन खत्म करके वापस आ रहे थे। सूत्रों के अनुसार नक्सलियों ने ये हमला रविवार देर रात किया। नक्सलियों ने जवानों पर बालीगुदा सब-डिविजन के अंतर्गत खमनखोल के पास जंगली इलाके में हमला किया। बताया जा रहा है कि हमले के वक्त जवान किसी ऑपरेशन से वापस लौट रहे थे। इसके बारे में और पढ़े..

परमाणु क्षमता वाली स्वदेशी पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण

Date posted: June 2, 2017    3:23 PM

बालेश्वर:  भारत ने देश में ही बनी पृथ्वी 2 मिसाइल का शुक्रवार को ओडिशा के बालेश्वर स्थित चांदीपुर टेस्ट रेंज सफल परीक्षण किया। परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम इस मिसाइल का आज सुबह 9.56 बजे मोबाइल लॉन्चर के जरिये फायर किया गया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि जमीन से जमीन पर मार करने वाली इस मिसाइल का रेंज 350 किलोमीटर तक है। उन्होंने कहा कि इस बहुत ही एडवांस मिसाइल का परीक्षण सफल रहा और मिशन के लक्ष्य पूरे हुए। पृथ्वी-2 मिसाइल में 2 प्रोपेलर इंजन लगे हैं और यह 500 से 1000 किलोग्राम वजनी आयुध ले जाने में सक्षम है। यह अपने लक्ष्य को सटीकता से भेजने के लिए अत्याधुनिक प्रणाली का इस्तेमाल करती है।

पेट्रोलियम मंत्रालय ने ओडिशा में शुरू की तेल/गैस की खोज

Date posted: October 13, 2016    10:01 AM

भुवनेश्वर:  केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बुधवार को ओडिशा में नेशनल सिस्मिक प्रोग्राम (एनएसपी) का उद्घाटन किया। इसका मकसद महानदी के तल में तेल और प्राकृतिक गैस जैसे हाइड्रोकार्बन स्रोतों का पता लगाना है। इसकी शुरुआत बालेश्वर जिले के सोरो प्रखंड के तारंगा गांव में की गई। एनएसपी का मकसद देश भर की नदियों की तलहटी का नए सिरे से मूल्यांकन करना है, खासकर जहां का पर्याप्त डाटा उपलब्ध नहीं है ताकि देश में मौजूद हाइड्रोकार्बन संसाधनों की संभावना का पता लगाया जा सके।

भारत-इजराइल का मिसाइल टेस्ट, 70किमी तक शत्रु प्लेन का खात्मा

Date posted: September 20, 2016    5:24 PM

ओडिशा: ओडिशा डिफेंस बेस पर जमीन से हवा में मार करने वाली मीडियम रेन्ज की मिसाइल का सफल परिक्षण किया गया। इस मिसाइल का नाम एमआर सेम है। मिसाइल की टेस्टिंग से पहले एहतियातन हजारों लोगों को बंगाल की खाड़ी से सटे इलाकों से शिफ्ट कर दिया गया। चांदीपुर के पास समुद्र में इस मिसाइल की टेस्टिंग रखी गई। इस मिसाइल की 5 बार टेस्टिंग की गई। इसके बारे में और पढ़े..

विश्व में नारियल उत्पादन में भारत अग्रणी देश : राधा मोहन सिंह

Date posted: September 3, 2016    8:35 PM

भुवनेश्वर: केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि विश्व में नारियल उत्पादन और उत्पादकता में भारत अग्रणी देश है। हमारा वार्षिक नारियल उत्पादन 19.8 लाख हेक्टेयर से 2044 करोड नारियल है और उत्पादकता प्रति हेक्टेयर 10345 नारियल है। विश्व नारियल दिवस एवं राष्ट्रीय पुरस्कार वितरण समारोह के अवसर पर भुवनेश्वर में किसानों को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि देश के सकल घरेलू उत्पाद में नारियल का योगदान करीब 20000 करोड़ रुपये है। वर्ष 2015-16 में हमारे देश से 1450 करोड़ रुपये मूल्य के नारियल उत्पादों का निर्यात किया गया है। सिंह ने यह भी बताया कि हमारे देश में एक करोड़ से अधिक लोग अपनी जीविका चलाने के लिए इस फसल पर निर्भर करते हैं। इसके बारे में और पढ़े..

इंसानियत फिर शर्मसार! बेटी का शव लेकर मीलों चले दंपती

Date posted: September 3, 2016    11:53 AM

मलकानगिरि:  एक बार फिर इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटना ओडिसा के मलकानगिरि से सामने आई है। कालाहांडी में एक दंपती को अपनी सात साल की बेटी का शव लेकर मीलों चलना पडा। बताया जा रहा है कि शव लेकर जा रहे ऐंबुलेंस ने कथित तौर पर बीच रास्तें में ही उन्हें छोड दिया। ऐंबुलेंस के ड्राइवर को जब यह पता चला कि वह लडक़ी मलकानगिरि जिला अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही मर गई है तो उसने कथित तौर पर लडक़ी के माता-पिता को ऐंबुलेंस से उतरने को कहा। इसके बारे में और पढ़े..

महिला की बस में मौत, पति व 5 दिन की बच्ची को जंगल में उतार गया ड्राइवर

Date posted: August 27, 2016    12:41 PM

दमोह:  ओडि़शा के बाद अब मध्य प्रदेश से शर्मशार कर देने वाली घटना सामने आई है। प्रदेश के दमोह में बस में जा रही एक महिला की मौत हो गई तो बस वालों ने महिला के पति और उसके पांच दिन की बच्ची को बस से उतार दिया। खबरों के मुताबिक, पांच दिन पहले बच्ची को जन्म देने के बाद से मल्ली बाई नाम की महिला की तबीयत खराब हो गई थी। इसके पति रामसिंह उसे इलाज के लिए दमोह ले जा रहा था, लेकिन रास्ते में बस में ही उसकी मौत हो गई। इसके बाद बस ड्राइवर ने उन्हें रास्ते में ही जंगली इलाके में उतार दिया और बस भगा ले गया। इसके बारे में और पढ़े..

दोस्त को पेड से बांध पत्नी से किया दुष्कर्म,जनता ने की धुनाई

Date posted: August 26, 2016    7:41 PM

ओडिशा:  ओडिशा में दो दोस्तों ने पहले अपने मित्र को बंधक बनाया फिर उसकी पत्नी के साथ दुष्कर्म किया। हालांकि लोगों ने आरोपियों को पकडकर उनकी जमकर ठुकाई कर दी व पुलिस को सौंप दिया। मामला ओडिशा के चांदवाली का है, जहां दो लोगों ने अपने ही दोस्त को पेड से बांधकर उसकी पत्नी से रेप किया है। मामले का पता चलने पर लोगों ने आरोपियों को पेड से बांधकर पीटा। पकडे गए दोनों आरोपियों का घर ओडिशा के चांदवाली में है और दोनों ही पेशे से मजदूर हैं। पीडित गिरधारी गुप्ता बिहार से आकर यहां बस गया था और उन दोनों के साथ काम करता था। दोनों का ही गिरधारी के यहां आना-जाना था। आरोपी गिरधारी की पत्नी पर गंदी नजर रखते थे।

वैन नहीं मिली तो GRP ने हड्डियां तोड़ गठरी में बांध ढोया शव

Date posted: August 26, 2016    12:46 PM

भुवनेश्वर:  ओडिशा के कालाहांडी में एंबुलेंस या मोर्चरी वैन न दिए जाने पर पत्नी की लाश 12 किलोमीटर तक कंधे पर ढोकर ले जाने का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि राज्य के बालासोर जिले में रेलवे पुलिस के एक शव के साथ शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। बालासोर में भी गुरुवार को अस्पताल वालों के मोर्चरी वैन देने से मना करने के बाद रेलवे पुलिस ने महिला के मृत शरीर की हड्डियां तोडक़र उसे गठरी में बंधवाया और बांस के डंडे और मजदूरों के जरिये उसे ढोकर स्टेशन पहुंचाया।

« Older Entries